Best 50+ Mirza Ghalib Ki Shayari in Hindi | Ghalib Ki Shayari

आज हम आपके लिए Best 50+ Mirza Ghalib Ki Shayari in Hindi | Ghalib Ki Shayari लेके आये है दोस्तों आप भी अगर शायरी पढ़ना पसंद करते है तो अपने एक व्यक्ति का नाम ज़रूर सुना होगा या उनकी शायरी कभी न कभी पड़ी ज़रूर पड़ी होगी वह व्यक्ति अपनी शायरी से सभी का दिल जीत लिया करता था।

mirza ghalib shayari images
mirza ghalib shayari images

mirza ghalib ki shayari

उन के देखे से जो आ जाती है मुँह पर रौनक़
वो समझते हैं कि बीमार का हाल अच्छा है।।
Un ke dekhe se jo aa jati hai
muh par ronak wo samjhte hai
ki bimar ka haal achha hai..

 

 

mirza ghalib ki shayari in hindi

मेरी ज़िन्दगी है अज़ीज़ तर इसी वस्ती मेरे
हम सफर मुझे क़तरा क़तरा पीला ज़हर
जो करे असर बरी देर तक।
Meri zindagi hai ajij tar isi vasti mere
hum safar mujhe katra katra pila jahar
jomkare asar bari der tak.

mirza ghalib ki shayari image
mirza ghalib ki shayari image

mirza ghalib ki shayari hindi me

तेरे वादे पर जिये हम तो यह जान,झूठ जाना
कि ख़ुशी से मर न जाते अगर एतबार होता.
Tere vaade par jiye ham
to yah jaan,jhooth jaana
ki khushee se mar na jaate
agar etabaar hota.

 

 

mirza ghalib ke sher

मंज़िल मिलेगी भटक कर ही सही
गुमराह तो वो हैं जो घर से निकले ही नहीं।
Manzil milegi bhatak kar hi sahi gumrah
to wo hai jo ghar se nikale hi nahi.

 

galib ki shayari in hindi image
galib ki shayari in hindi image

mirza ghalib ki shayari 2022

इश्क़ पर जोर नहीं है ये वो आतिश ग़ालिब
कि लगाये न लगे और बुझाये न बुझे।।
ishq par jor nahi hai ye wo Aatish
galib ki lagaye na lage aur bujhe.

 

 

galib ki shayari

किसी फ़कीर की झोली मैं कुछ सिक्के
डाले तो ये अहसास हुआ महंगाई के इस
दौर मैं दुआएं आज भी सस्ती हैं।
Kisi fakir ki jholi me kuch sikke dale
to ye ahsas hua mahangai ke is dor
me duayen aaj bhi asti hai.

galib ki shayari images
galib ki shayari images

ghalib ki shayari

मोहब्बत में नही फर्क जीने और मरने का उसी
को देखकर जीते है जिस ‘काफ़िर’ पे दम निकले.
Mohabbat mein nahee phark
jeene aur marane ka Usee ko
dekhakar jeete hai jis ‘kaafir’
pe dam nikale.

 

 

mirza ghalib shayari

में ज़िन्दगी से पूछा तू इतनी मुश्किल क्यों है
ज़िन्दगी ने कहा, दुनिया आसान
चीज़ों की क़दर नहीं करती।
Me zindagi se puchha tu itni mushkil
kyun hai zindagi ne kaha duniya Aasan
cheezon ki kadar nahimkarti.

mirza ghalib shayari image
mirza ghalib shayari image

mirza ghalib shayari in hindi

क़र्ज़ की पीते थे मय लेकिन समझते थे कि हां
रंग लावेगी हमारी फ़ाक़ा-मस्ती एक दिन।।
Karj ki pite the may lekin samjhte
the ki han rang lagawegi humari
faka masti ek din.

 

 

mirza ghalib shayari hindi

उदासी पकड़ ही नहीं पाते लोग
इतना संभाल कर मुस्कुराते है हम।
Udasi pakad hi nahi paate log
itna sambhal kar muskurate hai hum.

mirza ghalib shayari image download
mirza ghalib shayari image download

mirza ghalib shayari hindi me

गुज़रे हुए लम्हों को मैं इक बार तो जी लूँ,
कुछ ख्वाब तेरी याद दिलाने के लिए हैं.
Gujre Hue Lamho Ko Mai Ek
Baar To Jee Lu, Kuch Khwab
Teri Yaad Dilane Ke LiYE Hai.

 

 

mirza ghalib shayari 2022

ता फिर न इंतज़ार में नींद आये उम्र भर,
आने का अहद कर गये आये जो ख्वाब में।
Ta Fir Na Intezaar Mein Neend
Aaye Umr Bhar,Aane Ka Ahed
Kar Gaye Aaye Jo Khwaab Mein.

mirza ghalib shayari images in hindi
mirza ghalib shayari images in hindi

ghalib shayari

हैं और भी दुनिया में सुख़न-वर बहुत अच्छे
कहते हैं कि ‘ग़ालिब’ का है अंदाज़-ए-बयाँ और।।
han aur bhi dunya me sukhan var
bahut acchhe kehte hai galib ka
hai andaz-e-bayan aur.

 

 

ghalib poetry

क़ैद में है तेरे वहशी को वही ज़ुल्फ़ की याद
हां कुछ इक रंज गरां बारी-ए-ज़ंजीर भी था.
Ked me hai tere wahashi ko
wahi julf ki yaad han kuch ik
ranj gara bari-e-janjir bhi tha.

ghalib shayari images
ghalib shayari images

mirza ghalib poetry

उन के देखे से जो आ जाती है मुँह पर रौनक़
वो समझते हैं कि बीमार का हाल अच्छा है।।
Un ke dekhe se jo aa jaatee
hai munh par raunaq.Vo samajhate
hain ki beemaar ka haal achchha hai.

 

 

ghalib quotes

तुम मिलो या न मिलो नसीब की बात है
पर सुकून बहुत मिलता है तुम्हे अपना सोचकर।
Tum milo ya na milo nasib ki baat hai par
sukun bahut milta hai tumhe apna sochkar.

ghalib poetry images
ghalib poetry images

mirza ghalib quotes

नज़र लगे न कहीं उसके दस्त-ओ-बाज़ू को
ये लोग क्यूँ मेरे ज़ख़्मे जिगर को देखते हैं।।
Nazar lage na kahin uske dast-o-baju ko
ye log kyun mere jkhme jigar ko dekhte hai.

 

 

ghalib ki shayari

जरा सी छेद क्या हुई मेरे जेब में
सिक्कों से ज्यादा तो रिश्तेदार गिर गए।
Jara si chhed kya hua mere jeb me
sikkon se jyada to rishtedar gir gaye.

mirza ghalib shayari in hindi image
mirza ghalib shayari in hindi image

galib ki shayari

रगों में दौड़ते फिरने के हम नहीं क़ाइल,
जब आँख ही से न टपका तो फिर लहू क्या है.
Rango Me Daudte Firne Ke Ham
Nahi Kaiel Jab Ankh Hi Se Na Tapka
To Fir Lahu Kya Hai.

 

 

ghalib shayari in hindi

इतना दर्द न दिया कर ए ज़िन्दगी
इश्क़ किया है कोई क़त्ल नहीं।
Itna dard na diya kar e zindagi
ishq kiya hai koi katl nahi.

mirza ghalib shayari in urdu images
mirza ghalib shayari in urdu images

mirza ghalib shayari in hindi

चिपक रहा है बदन पर लहू से पैराहन
हमारी ज़ेब को अब हाजत-ए-रफ़ू क्या है।
Chipka raha hai badan par lahu
se perahan humari jeb ko ab
hajat-e-rafu kya hai.

 

 

ghalib shayari in urdu

तुम वो भी महसूस करलिया करो ना
जो हम तुमसे कह नहीं पाते हैं।
Tum wo bhi mahsus karliya karo na
jo hum tumse keh nahi pate hai.

ghalib shayari images
ghalib shayari images

galib ki shayari in hindi

दर्द जब दिल में हो तो दवा कीजिए
दिल ही जब दर्द हो तो क्या कीजिए।।
Dard jab dil mein ho to dava keejie
Dil hee jab dard ho to kya keejie..

 

 

ghalib ke sher

आप कितने भी अच्छे इंसान क्यों न हो आप
किसी न किसी की कहानी में बुरे ज़रूर होते है।
Aao kitne bhi achhe insaan kyun na
ho aap kisi na kisi ki kahani me bure
zarur hote hai.

ghalib shayari images in urdu
ghalib shayari images in urdu

ghalib shayari on love

है एक तीर जिस में दोनों छिदे पड़े हैं वो
दिन गए कि अपना दिल से जिगर जुदा था।
Hai ek tir jis me dono chinde pade hai
din gaye ki apna dil se jigar juda tha..

 

 

ghalib shayari on life

शक से भी अक्सर खत्म हो जाते है
रिश्ते कसूर हर बार गलतियों का नहीं होता।
Shak se bhi aksar khtm ho jate hai
rishte kasur har bar galtiyon ka
nahi hota.

ghalib shayari image in hindi
ghalib shayari image in hindi

mirza ghalib shayari in urdu

रेख़्ते के तुम्हीं उस्ताद नहीं हो ‘ग़ालिब’।
कहते हैं अगले ज़माने में कोई ‘मीर’ भी था।।
Rekhte ke tumhi ustad nahi ho
galib kehte hai agale jamane
me koi mir bhi tha.

 

 

mirza ghalib sad shayari

रंज से ख़ूगर हुआ इंसाँ तो मिट जाता है रंज।
मुश्किलें मुझ पर पड़ीं इतनी कि आसाँ हो गईं।।
Ranj se khugar hua insa to mit
jata hai ranj mushkilein mujh
par padi itni ki Aasan ho gai.

ghalib shayari image download
ghalib shayari image download

mirza ghalib sher

ज़िन्दगी से हम अपनी कुछ उधार नही लेते,
कफ़न भी लेते है तो अपनी ज़िन्दगी देकर।
Zindagi se hum apni kuch
udhar nahi lete,Kafan bhi lete
hai to apni zindgi dekar.

 

 

mirza ghalib best shayari

चाँदनी रातो कि खामोश सितारो के कसम,
दिल मै आब तेरे सिवा कोई भि आबाद नही.
Chandni Raato Ki Khamosh
Sitaron Ke Kasam,Dil Mein Ab
Tere Shiwa Koi Bhi Aabaad Nahin.

ghalib ki shayari image
ghalib ki shayari image

mirza ghalib shayari on love

बाज़ीचा-ए-अतफ़ाल है दुनिया मिरे आगे
होता है शब-ओ-रोज़ तमाशा मिरे आगे।।
Bajicha-e-aatfal hai duniya mire aage
hota hai shab-o-roj tamasha mire aage.

 

 

koi umeed bar nahi aati shayari

मुहब्बत में उनकी अना का पास रखते हैं
हम जानकर अक्सर उन्हें नाराज़ रखते हैं.
Muhabbat me unki aana ka
pass rakhte hai Hum jankar
aksar unhe naraj rkhte hai.

mirza ghalib shayari images urdu
mirza ghalib shayari images urdu

ghalib best shayari

इश्क से तबियत ने जीस्त का मजा पाया,
दर्द की दवा पाई दर्द बे-दवा पाया।
Ishq Se Tabiyat Ne Zeest Ka Mazaa Paya
Dard Ki Dawa Payi Dard Be Dawa Paya..

 

galib ki shayari on life in hindi

है और भी दुनिया में सुखनवर बहुत
अच्छे कहते है की ग़ालिब का है
अंदाज-ए-बयां और।
Hai aur bhi duniya me sukhnawa
bahut achhe kehte ha ki ghalib ka
hai andaj-e-bayan aur.

mirza ghalib shayari image 2021
mirza ghalib shayari image 2022

ghalib ki shayari in urdu

वो चीज़ जिसके लिये हमको हो बहिश्त अज़ीज़
सिवाए बादा-ए-गुल्फ़ाम-ए-मुश्कबू क्या है।।
Wo cheez jiske liye humko ho bahisht ajij
shiwaye bada-e-gulfam-e-mushkabu kya hai.

 

 

galib ki shayari in hindi on love

मैं उदास बस्ती का अकेला वारिस,
उदास शख्सियत पहचान मेरी.
Main udas basti ka akela baris
udas shakhisyat pehchan meri.

mirza ghalib images
mirza ghalib images

ghalib ke sher in hindi

वो रास्ते जिन पे कोई सिलवट ना पड़ सकी,
उन रास्तों को मोड़ के सिरहाने रख लिया.
Wo Raste jin pe koi silwate na pad sakti
un raston ka mod ke sirahane rakh liya.

 

ghalib ki yaadein in hindi

जब ख़ुशी मिली तो कई दर्द मुझसे रूठ गए,
दुआ करो कि मैं फिर से उदास हो जाऊं.
Jab khushi mili to koi dard mujhse ruth
gaye dua karo ki me fir se udas ho jaun.

mirza ghalib images download
mirza ghalib images download

mirza ghalib ka sher

तू मिला है तो ये अहसास हुआ है मुझको
ये मेरी उम्र मोहब्बत के लिए थोड़ी है.
Tu mila hai to ye ehsaas hua hai mujhko
Ye meri umr mohabbat ke liye thodi hai.

 

mirza ghalib ki poetry

अब तो आ जाओ साईं बहुत उदास है दिल,
सांसों की तरह जरूरी है, अब दीदार तेरा.
Ab to aa jao sai bahut udas hai dil
sanson ki tarah zarurt hai ab didar tera.

 

miya ghalib ki shayari

बिखरा वजूद, टूटे ख़्वाब, सुलगती तन्हाईयाँ,
कितने हसीन तोहफे दे जाती है ये मोहब्बत।
Bikhra Wajood, Toote Khwaab,
Sulagti Tanhaiyan,Kitne Haseen
Tohfe De Jati Hai Yeh Mohabbat.

 

mirza galib ki shayari hindi

मोहब्बत तो दिल से की थी, दिमाग उसने लगा लिया
दिल तोड़ दिया मेरा उसने और इल्जाम मुझपर लगा दिया.
Mohababt to dil se ki thi, deemag use laga
diya Dil tod diya mera usne aur ilzaam mujh
par laga diya.

 

 

mirza ghalib ki shero shayari

हक़ीक़त ना सही तुम ख़्वाब बन कर मिला करो,
भटके मुसाफिर को चांदनी रात बनकर मिला करो।
Haqikat Na Sahi Tum Khwab
Bankar Mila Karo,Bhatke Musafir Ko
Chaandani Raat Bankar Mila Karo.

 

 

mirza ghalib shayari in hindi 2 lines

न वो आ सके , न हम कभी जा सके ,
न दर्द दिल का किसीको सुना सके
बस खामोश बैठे है उसकी यादों में ,
न उसने याद किया न हम उसे भुला सके.
Na wo Aa sake, Na hum kabhi ja
sake Na dard dil ka kisiko suna
sake bas khamosh bethe hai uski
yadon me Na usne yaad kiya na
hum use bhula sake..

 

 

मिर्ज़ा ग़ालिब शायरी इन उर्दू

उनकी एक नजर को तरसते रहेंगे,
ये आंसू हर बार बरसते रहेंगे,
कभी बीते थे कुछ पल उनके साथ,
बस यही सोच कर हसते रहेंगे।
Unki ek nzar ko taraste rahenge
ye ansu har bar baraste rahenge
kabhi bite the kuch pal unke sath
bas yahi soch kar haste rahenge.

 

 

मिर्जा गालिब दर्द शायरी इन हिंदी

नहीं करनी अब मोहब्बत किसी से,
एक बार करके ही पछता लिए हम,
उसी ने दे दिए हमें जिंदगी के सारे गम..
Nahi Karni Ab mohabbat kisi se
EK bar karke hi pachta liye hum
usi ne de diye humein zindagi ke
Sare gam..

 

 

मिर्ज़ा ग़ालिब लव स्टोरी

मेरे मरने का एलान हुआ तो उसने भी यह
कह दिया,अच्छा हुआ मर गया बहुत उदास
रहता था।
Mere marne ka elan hua to usne bhi
yah keh diya acha hua mar gaya bahut
udas rahta tha.

 

 

मिर्जा गालिब गजल

उदास हूँ किसी की बेवफाई पर
वफाकही तो कर गए हो खुश रहो.
udas hun kisi ki bewafai par
wafakahib to kar gaye ho khush rho.

 

 

mirza ghalib ke sher urdu mein

यों ही उदास है दिल बेकरार थोड़ी है,
मुझे किसी का कोई इंतज़ार थोड़ी है.
Yun hi udas hai dil bekarar thodi
hai mujhe kisi ka koi intzaar thodi ha.

 

दोस्तों अगर आपको हमारे द्वारा शेयर की गई आज की ग़ालिब शायरी पसंद आई हो तो हमें comment box में comment कर के ज़रूर बातें की आपको हमारी शायरी किसी लगी और ये भी बताएं की आपको हमारी सभी शायरी में से कोनसी शायरी सबसे ज्यादा पसंद आई है। 
 
दोस्तों आप यह मिर्ज़ा ग़ालिब साहब की शायरी अपने सभी दोस्तों और अपने जीवन साथी के साथ शेयर कर सकते है और अपने सभी सोशल मीडिया जैसे whatsapp, facebook, instagram सभी पर शेयर कर सकते है.
 

मिर्ज़ा ग़ालिब का जन्म?

मिर्ज़ा ग़ालिब साहब का जन्म 1797 में 27 दिसंबर में आगरा में हुआ था इन्होने अपने द्वारा लिखी गई शायरी, ग़ज़ल, से अपने खुद की पहचान बनाई थी और यह बड़े ही आराम वाले व्यक्ति थे लेकिन इनकी शायरी जो  था उसके दिल में इनकी बातें घर कर जाती थे। 
 
पुराने समय के सबसे बड़े शायर मिर्ज़ा ग़ालिब को उर्दू शायरी का बादशाह माना जाता था इन्होने अपने हुए दुखो को बहुत देखा है और उन्होंने अपनी शायरी में उन इतने सरल भाषा से शायरी की है की सुनने वालो को दिल से आह निकलती थी उनकी शायरी दिल को छू जाने वाली रहती थी। 
 
मिर्ज़ा ग़ालिब आज के समय में भी उनकी शायरी सबसे ज्यादा पसंद की जाती है यह एक महान शायरी थे जिन्होंने बहुत ही शानदार शायर, गजल, कवि थे उन्होंने अपने समय में बहुत ही शानदार और मन मोहक शायरी, ग़ज़ल,  बहुत ही चीज़ों को लिखा है।
 
 
आज भी अगर कोई पूछता है तो सबसे पहले मिर्ज़ा ग़ालिब की शायरी की बात होती है क्युकी उनकी शायरी सबसे सरल और दिल को छू जाने वाली रहती थी उनकी बोली गई शायरी सभी लोगों और सभी प्रेमी को समझ में आती थी और उनके सीधे दिल के दर्द को बयां करती थी। 
धन्यवाद।